[प्रेशर कूकर] में भोजन पकाने के ये है बड़ा नुकसान | भोजन किन बर्तनों में पकाना चाहिए |

भोजन पकाने की नियम आज हम आपको इस पोस्ट में भोजन पकाने की नियम क्या है, भोजन किन बर्तनों में पकाना चाहिए, भोजन कहां रखना चाहिए, भोजन को कैसे गर्म करना चाहिए, इन सब चीजों पर विस्तृत चर्चा करेंगे। ऐसे में आपको भोजन पकाने की नियम और सावधानियां जरूर पढ़नी चाहिए।

भोजन किन बर्तनों में पकाना चाहिए
भोजन किन बर्तनों में पकाना चाहिए

आज आधुनिक युग में आधुनिकता का भंडार हो गया है। लोक नई-नई चीजें प्रयोग में लाने लगे हैं। जैसे भोजन बनाने के लिए कुकर, भोजन को रखने के लिए फ्रिज और गर्म करने के लिए माइक्रो वेब ओवन जोकि स्वास्थ्य की दृष्टि से बेहद हानिकारक है।

आप इस पोस्ट में शुद्ध और पौष्टिक भोजन पकाने के बारे में विस्तृत समझ विकसित करेंगे। जिससे आपकी आंखें खुल जाएंगी। ऐसे में मुझे उम्मीद है आपको भोजन पकाने और सुरक्षित रखने का तरीका बेहद पसंद आएगा।

एल्युमीनियम के बर्तन के नुकसान– kis bartan me khana banana labhdayak hai –

कौन सी धातु के बर्तन फायदेमंद है और नुकसानदेह है
कौन सी धातु के बर्तन फायदेमंद है और नुकसानदेह है

 

 

 

 

 

 

 

 

 

  1. भोजन पकाने के समय सूरज का प्रकाश और ऑक्सीजन का स्पर्श जरूर होना चाहिए। अगर आपके भोजन में सूर्य का प्रकाश, और पवन का स्पर्श नहीं है। तो ऐसा भोजन जहर के समान होता है। ऐसे में भोजन पकाते समय जरूर ध्यान रखें।
  2. प्रेशर कुकर का भोजन कभी नहीं करना चाहिए। क्योंकि प्रेशर कुकर एलमुनियम के बने होते हैं। जो खाना पकाने और रखने की दृष्टि से सबसे खराब होता है । याल्मुनियम के बर्तन में खाने से डायबिटीज, टीवी, अस्थमा, अर्थराइटिस और 50 प्रकार की बीमारियां होने की संभावना रहती है। ऐसा शोध वैज्ञानिक के अनुसार सिद्ध है।
  3. जब हम प्रेशर कुकर में भोजन बनाते हैं। तो प्रेशर कुकर में भोजन पकता नहीं है। वह दबाव के कारण कई टुकड़ों में डूब जाता है। इसके अलावा प्रेशर कुकर के एलमुनियम में भोजन पकाने से तीन परसेंट माइक्रोन्यूट्रिएंट्स बसते हैं। मॉलिक्यूल टूट जाते हैं।
  4. आपकी बेहतर जानकारी के लिए बता दें, एलमुनियम के बर्तन में प्राचीन समय में भोजन नहीं पकाया जाता था। यह हमारे देश में हाल ही में आया है। एलमुनियम के बर्तन में भोजन पकाने से और उसका उपयोग करने से कार्यक्षमता कम यानी प्रतिरोधक क्षमता न्यूनतम हो जाती है।
  5. यह एक ऐसा भारी तत्व है, जो शरीर में घुसने के बाद हमारे शरीर का सिस्टम उस हानिकारक सिस्टम को बाहर नहीं निकाल पाता है। ऐसे में बाद में दमा अस्थमा जैसी गंभीर बीमारियों का कारण बन जाता है। आज के नवीन युग में एलमुनियम चिकित्सा विज्ञान में वर्जित है।
  6. एलमुनियम में प्रेशर कुकर में भोजन पकाने से कैंसर तक की बीमारियां शरीर में हो जाती हैं। इसके अलावा किडनी फेल होने का कारण भी बनता है।
  7. बेहतर जानकारी के लिए बता दें कि फ्रिज में रखा हुआ कोई भी चीज नहीं खाना चाहिए। क्योंकि इसमें ना तो हवा का स्पर्श होता है, और ना ही सूर्य का। ऐसी स्थिति में आप को फ्रिज में रखी हुई वस्तु को नहीं खाना चाहिए। क्योंकि फ्रीज में क्लोरोफ्लोरोकार्बन होता है। जोकि क्लोरीन
    फ्लोरिन और कार्बन डाइऑक्साइड का मिश्रण होता है। यह जहर का स्रोत है। शरीर को कमजोर बना देता है।
  8. क्या आपको पता है माइक्रोवेव ओवन में गरम की हुई वस्तु नहीं खानी चाहिए। क्योंकि माइक्रोवेव ओवन में कोई वस्तु गर्म करने से एक ही तरफ गर्म होता है। जबकि उसे चारों तरफ से गर्म होना चाहिए । यह हमारे शरीर के लिए हानिकारक होता है माइक्रोवेव ओवन का आविष्कार ठंडे प्रदेशों के लिए किया गया था।
  9. कैसे मैं आप लोगों से अनुरोध है आप लोग आयुर्वेद को अपना ही समझे और इसी के अनुसार अपने दैनिक क्रिया का संचालन करें ताकि जीवन को स्वस्थ रहो समृद्ध बनाया जा सके छोटी छोटी चीजों से सीकर सीख कर बड़ी बीमारियों से आसानी से बच सकते हैं.

ऐसे में अपनी भारतीयता बरकरार रखें. और अपना एक कदम आयुर्वेद के सम्मान में जरूर निकालें. क्योंकि यही से जीवन की शुरुआत होती है. क्या आप इस पोस्ट को पढ़ने के बाद भी अल्मुनियम के बर्तन का यूज करेंगे और माइक्रोवेव से भोजन को गर्म करेंगे।

Read More–

आयुर्वेद- भोजन कब और कैसे करना चाहिये | गजब का 51 फैक्ट

19 BENEFIT OF SALIVA | मुँह के लार के कमाल के फायदे

Leave a Reply

Your email address will not be published.